adnow header ad

loading...

बुधवार, 17 जनवरी 2018

धन जिसका कोई मोल नहीं

एक कंगाल ने अपने बगीचे में एक गुप्त जगह में अपना सोना दफनाया था। हर दिन वह वहां जाता, खजाना खोलता और टुकड़े टुकड़े गिन करके यह सुनिश्चित करने की चेष्टा करता की सभी धन सुरक्षित हैं . ऐसा उसने इतनी बार किया कि एक चोर, जो उसे बार बार ऐसा करते देख रहा था, अनुमान लगाया कि यहाँ जरुर कुछ खजाना छिपा है,  अतः एक रात चुपचाप खजाना खोला और इसे लेकर फरार हो गया ।

जब उस कंजूस ने अपने नुकसान के बारे में सुना, तो वह बहुत दुःखी हुआ और निराशा से भर गया रोने लगा. वह रोते हुए अपने बाल पकड़ कर खीच रहा था । एक यात्री ने उसे रोने कर कारण पूछा ।

"मेरा सोना! हे मेरे सोने! "कंजूस आदमी बुरी तरह से रोया," किसी ने मुझे लूटा है! "

"आपका सोना कहा रखा था ? उस गड्ढे में? तुमने वहाँ क्यों रखा? आप इसे घर में क्यों नहीं रखते , जहां आप चीजें खरीदने के लिए आसानी से इन्हें पा सकते थे? "

"खरीदें!" वह कंजूस गुस्से में चिल्लाया "क्यों, मैंने सोना कभी छुआ भी नहीं मैं इसे किसी भी खर्च के बारे में नहीं सोच सकता था। "

अजनबी ने एक बड़ा पत्थर उठाया और उसे गड्ढे में फेंक दिया। "अगर आपके साथ ऐसा हुआ है," उन्होंने कहा, "तो उस पत्थर को ढंकना। आप जितना खजाना खो चुके हैं यह उतना ही लायक है! "

नैतिक: सहेजना, बुद्धिमानी से और उचित तरीके से खर्च करना अच्छा संकेत है यदि आप इसे किसी अच्छे उद्देश्य के लिए करते हैं। अन्यथा, हमारे द्वारा उपयोग किए जाने वाले उपयोग के मुकाबले किसी अधिकार का अधिकार नहीं है।


adsense